दूधातोली – उत्तराखण्ड का पामीर | Dudhatoli-Pamir of Uttarakhand

Dudhatoli-Pamir of Uttarakhand

उत्तराखण्ड में लघु हिमालय क्षेत्र के अन्तर्गत 2000 से 2400 मीटर की ऊँचाई पर एक साथ तीन जिलों चमोली, पौड़ी तथा अल्मोड़ा की सीमाओं में पसरे हुए महावन दूधातोली श्रृंखला को उत्तराखण्ड का पामीर (Dudhatoli-Pamir of Uttarakhand) कहा जाता है। इस श्रेणी पर बुग्याल, चारागाह तथा बाज, खर्सू व कैल वृक्षों के सघन वन हैं। … Read more

काफल – हिमालय का सबसे स्वादिष्ट फल | Kafal – the most delicious fruit of the Himalayas

Kafal

आज की ये कहानी होगी उस खूबसूरत मीठे पहाड़ी फल की जो देवभूमि उत्तराखण्ड के मध्य हिमालयी क्षेत्र में स्थित वनों में पाया जाता है। अगर आप पहाड़ प्रेमी हैं और अगर आपने अप्रैल माह से जून माह के बीच कभी भी उत्तराखण्ड की सैर की है तो आपने इस फल को जरूर खाया होगा … Read more

विश्व गौरैया दिवस | World Sparrow Day

World Sparrow day

विश्व गौरैया दिवस | World Sparrow Day आज भारत सहित संपूर्ण विश्व में गौरैया दिवस (World Sparrow Day) मनाया जा रहा है। वर्ष 2020 में गौरैया दिवस मनाने की शुरुआत थब हुई जब इसकी संख्या में भारी कमी देखने मिली। इसी कारण लोगों में गौरैया के संरक्षण व इसके प्राकृतिक वातावरण को बनाए रखने के … Read more

जानिए 2022 में कब होगी बाबा केदारनाथ धाम की यात्रा?

Kedarnath yatra 2022

जानिए 2022 में कब होगी बाबा केदारनाथ धाम की यात्रा? देवभूमि उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में स्थित श्री केदारनाथ धाम के कपाट खुलने की तिथि सदैव महाशिवरात्रि के पर्व पर भगवान केदारनाथ जी की शीतकालीन पूजा स्थली उखीमठ में वैदिक पंचांग पूजन के बाद घोषित की जाती है और कपाट खुलने के मुहूर्त को वैशाख … Read more

कण्वाश्रम | Kanvashram | The Birth Place of Emperor Bharat

Kanvashram

कण्वाश्रम का परिचय |Introduction to Kanvashram हिमालय के पाद में शिवालिक पहाड़ी की तलहटी पर हेमकूट और मणिकूट पर्वतों की गोद में स्तिथ ‘कण्वाश्रम’ ऐतिहासिक तथा पुरातात्विक दृष्टि से अत्यंत महत्त्वपूर्ण पर्यटन स्थल है। मालिनी नदी के तट पर स्थित इसी स्थान पर चक्रवर्ती सम्राट राजा भरत का जन्म हुआ था। जिसके नाम पर आगे … Read more

Sidhbali Temple | सिद्धबली मंदिर, जहाँ हुआ था गोरखनाथ और बजरंगबली का युद्ध

sidhbali temple

पवन तनय संकट हरण मंगल मूरत रूप।राम लखन सीता सहित ह्रदय बसौ सुर भूप ।। उत्तराखण्ड जिसका उपनाम देवभूमि भी है। उत्तराखण्ड को इस नाम से पुकारे जाने का कारण है इसकी भूमि पर स्थित अनेकानेक सिद्ध स्थान एंव अनगिनत शक्तिपीठ। जिस भूमि का कण-कण व पग-पग ईश्वरीय अनुभूति से भर दे वह स्थान ही … Read more